आपको बता दु की अबसे उत्तर प्रदेश में सम्पत्ति पंजीकरण तथा प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन ऑनलाइन ही किया जा सकेगा। जी हां यूपी सरकार ने इसका पूरा इंतजाम कर लिया है। अबसे उत्तर प्रदेश में जो भी प्रॉपर्टी रजिस्ट्री होंगे उनको ऑनलाइन ही कर बना होगा। इसके लिए सरकार एक वेब पोर्टल का भी शुरुआत किया है। इसके सीधा सा मतलब ये हे की अबसे किसी को भी सम्पत्ति पंजीकरण के लिए सरकरी ऑफिस की चक्कर नहीं लगाना होगा। सम्पत्ति का रजिस्ट्रेशन के लिए आपको ऑनलाइन पोर्टल पर आना होगा और सभी जानकारी सही से भरकर आवेदन पत्र को सबमिट करना होगा।

अगर अपने कभी किसी जमीन का रजिस्ट्रेशन कर बने गए हो तो आपको पता होगा की लोगो को कितनी दिक्कत का सामना करना पड़ता है जमीन पंजीकरण के समय। कितने सरे दस्ताबेज की जरुरत पड़ता है, एक टेबल से दूसरे टेबल पर जाना होता है। इनसब में 2-3 दिन का समय तो लग ही जाता है। ज्यादातर लोग को तो जमीन की रजिस्ट्री के नियम समझ में ही नहीं आता है। ऐसे लोग किसी एजेंट से यह सब काम कर बाते है और इसके बदले में एजेंट लोगो से मोठे अंक का पैसा वसूलता है।

उत्तर प्रदेश सम्पत्ति पंजीकरण ऑनलाइन
उत्तर प्रदेश सम्पत्ति पंजीकरण ऑनलाइन

उत्तर प्रदेश में सम्पत्ति पंजीकरण ऑनलाइन करने से ग्राउंड लेवल पर जो छोटे छोटे भ्रष्टाचार होता था वह बंद हो जायेगा। इस से लोगो के सिर्फ पैसे ही नहीं उनके समय की भी बचत होगा और सब कुछ ही स्टेप में पूरा हो जायेगा। लेकिन हां इसके लिए आपके पास सम्पत्ति के सभी दस्ताबेज होना ही चाहिए। ऐसा नहीं की पूरी प्रक्रिया ऑनलाइन ही हो जायेगा ऐसा बिलकुल नहीं है। आपको लास्ट में एक बार प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन ऑफिस में जाना ही होगा सभी दस्ताबेज को लेकर। ओर साथ में आपको सम्पत्ति जिनके नाम पर हे उनको और दो साक्षी को लेकर जाना होगा।

सम्पत्ति पंजीकरण किया होता है

किसी सम्पत्ति को बिक्री, स्थानांतरण, उपहार या पट्टे की जरुरत होने पर उस सम्पत्ति का पंजीकरण किया जाता है। यह सम्पत्ति पंजीकरण किसी भी रूप में हो सकता है – जैसे की कृषि जमीन, खली पड़ता जमींन, घर, दुकान। सिर्फ इतना ही नहीं अगर किसी सम्पत्ति का पटीशन किया जा रहा है तो भी पंजीकरण करना जरूरी होता है।

ऑनलाइन सम्पत्ति पंजीकरण का फ़ायदा

  • सम्पत्ति ऑनलाइन पंजीकरण करने से ज्यादा तर काम ऑनलाइन ही हो जाता है।
  • आपको इंटरनेट का अछि जानकारी है तो आप खुद भी ऑनलाइन पंजीकरण कर सकते हो।
  • ऑनलाइन होने से आपको किसी एजेंट को पैसे देने की जरुरत नहीं है।
  • लोगो के समय और पैसे दोनों का बचत होता है।
  • चाहो तो आप स्टांप शुल्क और पंजीकरण शुल्क ऑनलाइन ही जमा हो।

उत्तर प्रदेश सम्पत्ति पंजीकरण ऑनलाइन

यूपी में ऑनलाइन सम्पत्ति पंजीकरण करने के लिए सरकार के द्वारा बनाया गया ऑफिसियल वेबसाइट पर ही जाए। प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन के आवदेन करने से समय सम्पत्ति का दस्ताबेज, खरीदने वाला और बेचने वाला दोनों के डाक्यूमेंट्स (आधार, पैन) अपने पास रखले। इसके साथ दो गवाहों का भी जानकारी देना होगा। आप जिनके नाम गवाहों के रूप में देंगे उनका पहचान पत्र तथा निवास प्रमाण पत्र के साथ सम्बंधित उपनिबंधक के सामने प्रस्तुत कर बना होगा।

आवेदन करने के लिए आप https://igrsup.gov.in/igrsup/defaultAction.action# वेबसाइट को ओपन करके सम्पत्ति पंजीकरण सेक्शन पर जाकर आवेदन करें पर क्लिक करदे। या फिर आप सीधे इस लिंक पर ही जा सकते- यहां पर क्लिक करे

ऊपर दिए लिंक पर जाने के बाद लेखपत्र पंजीकरण-लॉगिन बनायें के सेक्शन पर आना होगा। लॉगिन बनायें का मतलब होता है अकाउंट बनाना। यहां पर आपको जनपद*, तहसील*, उपनिबंधक*, मोवाइल संख्या* डाल देना है, इसके बाद पासवर्ड*, पुनः पासवर्ड* (पासवर्ड दुबारा डाले), कैप्चा अंकित करें (ऊपर दिए कोड डाले) और आगे बढ़े पर क्लिक कर देना है। आप जो भी पासवर्ड डालोगे उसको कही पर लिखकर रख बादमे उसकी जरुरत पढ़ेगा। (Note- पासवर्ड कम से कम 08 डिजिट का होना चाहिए। इनमें से एक अंग्रेजी का कैपटिल अक्षर,एक अंग्रेजी का स्माल अक्षर, एक स्पेशल कैरेक्टर तथा एक अंक का होना अनिवार्य है। स्पेशल कैरेक्टर के लिए @, #, * अथवा $ में से किसी एक को चुना जा सकता है)

लेखपत्र पंजीकरण

अब जो पेज आएगा वोहा आपको पंजीकरण प्रपत्र में संव्यवहार की प्रकृति और लेखप्रत्र का प्रकार चुन लेना है। लेखप्रत्र का प्रकार चुन लेने के बाद निचे आपको लेखपत्र प्रस्तुतकर्ता का विवरण देना है, जैसे की नाम (हिंदी और इंग्लिश में), ई-मेल, मोबाइल नंबर, लेखपत्र प्रस्तुतकर्ता कोन है ये भी देना है। लास्ट में आगे बढ़े पर क्लिक करना हे। नोट-  इस पेज पर आपको आवदेन क्रमांक नंबर दिखेगा उसको नोट करके रखे।

लेखपत्र का पंजीकरण

अब आपके सामने प्रपत्र एंड शुल्क का विवरण का पेज आएगा। सबसे पहले आप सम्पत्ति का प्रकार चुन लीजिये आवासीय, कृषि, व्यावसायिक में से और सम्पत्ति विवरण जोड़े पर क्लिक कर देना है। सम्पत्ति विवरण जोड़े पर क्लिक करने के बाद आपको मोहल्ला/गाँव, वार्ड, आनुपातिक क्षेत्रफल (बर्ग मीटर में), सम्पत्ति प्राप्ति स्रोत जैसे कुछ जानकारी देना है और मुल्ल्याकं करे कर क्लिक कर देना है। इस सम्पत्ति पंजीकरण के लिए आपको कितना शुल्क भरना हे वह भी दिखाई देगा। सब कुछ चेक करके आपको सुरक्षित करें पर क्लिक कर देना है।

इसके बाद आपको तीन चीज़े ओर भरना है- विक्रेता, क्रेता, दो गवाह की जानकारी सही से भरना है। सब कुछ भर देने के बाद अब तक अपने जो भी भरा है वह सब एक फॉर्म में भरकर आएगा होगा। अगर फॉर्म में कुछ गलत है तो संशोधन पर क्लिक करके सही कर लीजिये बाद में कोई भी जानकारी चेंज नहीं होगा। इसके बाद आपको इस फॉर्म को Print कर लेना है, प्रिंट नहीं कर सकते हो तो सिस्टम में Save जरूर करले और आगे बढ़े पर क्लिक कर देना है।

सबसे लास्ट में आपको भुगतान करना होगा। मुल्ल्याकं करते समय जो स्टांप शुल्क और पंजीकरण शुल्क दिखाया था वह पैसा आपको देना होगा। आप ऑनलाइन भी शुल्क का भुगतान कर सकते हो। यूपी सम्पत्ति पंजीकरण का आवेदन सम्पूर्ण होते ही आपके मोबाइल पर sms से सभी जानकारी आ जायेगा। sms पर दिए गए समय के अंदर आवेदन करते समय अपने जिस ऑफिस को चुना था वोहा जाना होगा। ऑफिस में विक्रेता, क्रेता, दो गवाह के साथ सम्पत्ति के सभी पेपर्स और डाउनलोड किया हुआ आवेदन फॉर्म को भी जमा करना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here